मॉब लिंचिंग, दलित और मुस्लिमों को निशाना बनाने को लेकर खुलकर बोलीं नुसरत जहाँ

इस बार की लोकसभा में पश्चिम बंगाल से तृणमूल कांग्रेस से नुसरत जहां भी चुनाव जीतकर संसद पहुंची हैं. उन्होंने यह पहला चुनाव लड़ा था जिसमे उन्हें कामयाबी मिली. इसके साथ साथ उनकी चर्चा भी खूब हुई. मीडिया से लेकर सोशल मीडिया यूज़र्स के बीच वह छाई रहीं पहले अपनी खूबसूरती को लेकर और बाद में शादी को लेकर. वहीँ उनके तौर तरीकों पर भी कुछ लोगों ने सवाल उठाया लेकिन अब बतौर सांसद नुसरत जहाँ काफी सक्रीय नज़र आ रही हैं.

मोदी को लिखी चिठ्ठी का किया समर्थन

उन्होंने पीएम मोदी को लिखी गयी चिट्ठी का उन्होंने समर्थन किया है. उन्होंने खुला ख़त लिखकर कहा है कि देश के मुस्लिम समाज के लोग भीड़ तं’त्र से घिरते चले जा रहे हैं. उन्होंने आगे कहा है कि देश भर में हेट क्राइम के मामलों और घटनाओं में लगातार इजाफा हुआ है. उन्होंने कहा है कि बीते पांच सालों में देश के मुस्लिम और दलित समाज के खिलाफ हिंसा में बढ़ोतरी हुई है.

मॉब लिंचिग का शिकार होते दलित-मुस्लिम

उन्होंने कहा है कि इस साल में भी ऐसे 11 से अधिक मामले सामने अ चुके हैं जिसमे से चार लोगों की मौत हो चुकी है. उन्होंने कहा कि यह पीड़ित लोग दबे कुचले अल्पसंख्यक समाज से ताल्लुक रखते हैं. उन्होंने आगे कहा कि ऐसे कई मामले लगातार सामने आ रहे हैं जहाँ पर खुद को गौ रक्षक कहने वाले लोग कभी गौ मांस तो कभी गायों की तस्करी की अफवाह को लेकर लोगों को निशाना बनाया गया है.

लगातार हो रहा है अन्याय

वहीँ ऐसे मामले में रोकने को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाने को लेकर उन्होंने कहा कि ऐसे अपराधों के प्रति चुप्पी और निष्क्रियता ने हमें प्रभावित किया है. उन्होंने आगे तबरेज अंसारी, मोहम्मद अखलाक और पहलू खान का ज़िक्र करते हुए कहा है कि यह महज़ लोग नहीं बल्कि अन्याय का प्रतीक बन चुके हैं. उन्होंने कहा कि ऐसे काम को अंजाम देने वालों ने भगवान के नाम को भी नहीं छोड़ा.